केवल 10 हजार में शुरू करें अचार का बिज़नेस | New Business Ideas Hindi

शेयर करें - ज्ञान बाँटें

अचार अनेकों फलों सब्जियों व तेल मसालों से मिलकर बना एक बड़ा ही चटपटा भारतीय व्यंजन है। जिसे भारत के प्रायः सभी घरों में खाने के साथ इस्तेमाल किए जाने का प्रचलन है। एवं यह लगभग सभी को बहुत ही पसंद आने वाला व्यंजन है। इसे किसी भी भारतीय खानपान के आयोजन में अनिवार्य रूप से सम्मिलित किया ही जाता है। एवं लोगों को अत्यधिक पसंद आने के कारण अच्छी खासी मात्रा में इसकी बिक्री की जाती है। एवं अब तो यह एक बड़ा ही फायदेमंद व्यवसाय बन चुका है। इसे आप घर बैठे भी करके मोटी कमाई कर सकते हैं। तो आज के इस लेख में आप इसी के विषय में विभिन्न जानकारियां प्राप्त करेंगे। यह जानेंगे कि अचार का बिजनेस क्या है इसे करने में कितने निवेश की आवश्यकता पड़ेगी, इसे बनाने की विधि तथा इसकी बिक्री का कार्य कैसे किया जाएगा इत्यादि अचार संबंधित अन्य अन्य बातें आइए प्रारंभ करते हैं।

क्या है यह अचार का व्यवसाय:-

जैसा कि हमने ऊपर ही बताया कि अचार भारत का अत्यंत ही प्रिय व्यंजन है। एवं इसकी अत्यधिक मांग को देखते हुए इसे बड़ी मात्रा में बनाकर बेचे जाने का व्यवसाए किया जाता है। अनेकों प्रकार के अचार होते हैं जिसे आप भी बना सकते हैं तथा बेचकर लाभ कमा सकते हैं। उदाहरण स्वरूप कुछ अचारों के नाम निम्नांकित हैं-

आम का अचार, नींबू के अचार, आंवला के अचार एवं कटहल के अचार ,आमङा के अचार इत्यादि।

कितने निवेश की आवश्यकता होती है इस व्यवसाय में:-

इस अचार के व्यवसाय को करने के लिए प्रारंभ में लगभग आपको 40 से ₹50000 तक की रकम लगाकर अपना कारोबार प्रारंभ करना होगा। जिसमें से लगभग 9 से ₹10000 अचार बनाने के लिए फल एवं सब्जियां खरीदने में लगेंगी। तथा तेल मसालों की खरीद में भी लगभग ₹10000 तक का खर्चा आ ही जाएगा। इसके अतिरिक्त अचारों को बनाने तथा रखने अथवा पैकिंग करने के लिए बर्तन व बड़े-बड़े डब्बे खरीदने होंगे। जिसके लिए लगभग 4 से ₹5000 तक चाहिए होंगे। एवं कार्य बड़ा होने के कारण इसे अकेले करना कठिन है। इसलिए आपको एक से दो श्रमिक सहायता के लिए रखने होंगे। तो 1 से 2 लोगों को उनके कार्य की हाजिरी भी देनी पड़ेगी। इस प्रकार अपने व्यवसाय को आरंभ करके लाभ लेना शुरू कर सकते हैं। एवं जैसे-जैसे व्यवसाय मैं लाभ हो वैसे- वैसे उसकी वृद्धि के लिए अचार बनाने की मशीन की भी व्यवस्था कर लेनी उचित है। ताकि समय के साथ व्यवसाय की भी वृद्धि हो सके एवं अत्यधिक लाभ भी कमाया जा सके।

अचार के व्यवसाय में लाभ कितना हो सकता है:-

अचार का व्यवस्था एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें शुरुआत तो आपको एक मोटी रकम के निवेश से करनी होती है। किंतु 40 से ₹50000 लगाकर जब आप इसे प्रारंभ कर लेते हैं। तो इसके दोगुने रुपए कमाए जा सकते हैं। अर्थात आप प्रारंभ में ही इस व्यवसाय से लाख रुपए तक की रकम कमा सकते हैं। एवं धीरे-धीरे व्यवसाय बढ़ने के साथ ही लाभ में भी वृद्धि होती है।

अचार बनाने हेतु महत्वपूर्ण सामग्रियां:-

व्यवसाय को प्रारंभ करने तथा अचार को बनाने के लिए सर्वप्रथम आपको आवश्यक सामग्रियां जुटानी होंगी। इसके लिए महत्वपूर्ण कच्चे माल चाहिए होंगे। जैसे फल ,सब्जियां विभिन्न गोटे मसाले एवं तेल इत्यादि। इन सामग्रियों की व्यवस्था कर लेने के पश्चात इन्हें आवश्यकता अनुसार अलग-अलग प्रकार से तैयार करने होते हैं। एवं उसके पश्चात आचार बनाने की प्रक्रिया शुरू की जाती है।

अचार बनाने की विधि क्या है:-

अचार को बनाने के लिए विभिन्न प्रकार की तैयारियां करनी होती है ।जैसे कि फलों एवं सब्जियों को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटना एवं मसालों को भून कर पीस लेना । फिर सभी मसालों व नमक को मिलाकर तैयार करना।उसके पश्चात मशीनों अथवा अचार बनाने की विधि से अवगत लोगों के द्वारा कुछ दिनों तक या कम से कम 72 घंटे तक टेंकर में रखकर उसे तैयार कर लिया जाता है। उसके पश्चात उनमें मसालों को मिलाकर उसे अच्छी तरह डब्बों में पैक करने के पश्चात धूप में तपाए जाते हैं। एवं कुछ दिनों में अचार तैयार हो जाता है।

अचार के बिक्री का कार्य:-

अब रही अपने तैयार किए गए अचार को बेचने की जिम्मेदारी। तो अब आपको यह अचार को किसी बड़ी एजेंसी या दुकान इत्यादि में बेचना होगा। जहां से अधिक से अधिक लोग आपके अचार को खरीद सके। अथवा आप कुछ अचारों की बिक्री कर लेने के पश्चात जब आपके स्वयं के ग्राहक हो जाएं। तो आप अपने अचार को सीधे-सीधे ग्राहकों तक बेचकर और अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

इस व्यवसाय को करने के लिए आवश्यक लाइसेंस क्या हैं:-

किसी भी प्रकार के भोजन संबंधित वस्तुएं भोजन मिष्ठान व्यंजन इत्यादि का व्यवसाय करने के लिए। आपके पास कुछ लाइसेंस होने अनिवार्य होते हैं। जैसे कि-

1. जीएसटी का लाइसेंस

2. फूड लाइसेंस

3. उद्योग लाइसेंस

4. एवं ट्रेडमार्क लाइसेंस

इसके अतिरिक्त कई सरकारी योजनाएं हैं जिसे इस व्यवसाय को प्रारंभ करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। एवं वे सभी स्कीम्स निम्नलिखित हैं:-

1. मुद्रा लोन योजना

2. स्टैंड अप इंडिया योजना

3. पीएमईजीपी योजना आदि।

इस व्यवसाय में उपयोग की जाने वाली आवश्यक मशीनें:-

1.इसके लिए आपको अचार मिक्सचर लेने की आवश्यकता होती है। जिसमें आप अपने अचार को अच्छी तरह मिला सकें।

2. एवं चक्की की आवश्यकता होती है ताकि अचार के लिए मसालों को पीसा जा सके।

3. तराजू अथवा वजन करने वाला स्केल।

4. दाम एवं अपने ब्रांड का नाम चिपकाने के लिए लेबलिंग यूनिट

यह सब मशीनें व्यवसाय के प्रारंभ में प्रयोग की जाती हैं। लेकिन व्यवसाए जब बड़ा हो जाता है तो बड़ी मशीनरियां अथवा सेमी ऑटोमेटिक प्लांट लगवाना होता है। जिससे कि बड़ी मात्रा में व्यावसायिक कार्यों को पूर्ण किया जा सके। अधिक मात्रा में अचार बनाया जा सके।

यह तो था अचार का व्यवसाय प्रारंभ करने का तरीका जिसके विषय में हमने आपको प्रारंभिक निवेश की लागत लगभग 40 से ₹50000 तक की बताइ। किंतु अपनी सामर्थ तथा व्यवसाय की परख के लिए आप इसे छोटे निवेश के साथ भी शुरू कर सकते हैं। जिसमें अपने हिसाब से उपरोक्त बताई गई सभी चीजें कम मात्रा लाकर इसे बना कर बेच सकते हैं। एवं अपने निवेश के अनुसार ही लगभग उसकी दोगुनी कमाई कर सकते हैं।


शेयर करें - ज्ञान बाँटें

Leave a Comment